Movie prime

धान, गेहूँ तो छोड़िये! शुरू करें इन फलों की खेती, सरकार दे रही है 50% सब्सिडी

 
धान, गेहूँ तो छोड़िये! शुरू करें इन फलों की खेती, सरकार दे रही है 50% सब्सिडी

सरकारी योजना: खराब मौसम के कारण किसान अब खेती में विकल्प तलाश रहे हैं। विभाग भी इसे लेकर सजग है और विभिन्न योजनाएं चला रहा है. बिहार में किसान अब नकदी फसल की खेती पर अधिक ध्यान दे रहे हैं। फलों की खेती किसानों के लिए इसे और अधिक आकर्षक बना रही है। सरकार फलों की खेती को भी बढ़ावा दे रही है. यह फलों की खेती को बढ़ावा देने के लिए किसानों को सब्सिडी भी प्रदान कर रहा है।

50% सब्सिडी
सरकार किसानों को फलों में आम, पपीता, केला और नारियल उगाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है. बिहार बागवानी विभाग नारियल और पपीता की खेती पर ज्यादा फोकस कर रहा है. बिहार सरकार के बागवानी विभाग के मुताबिक, शुष्क बागवानी योजना के तहत आम, एप्पल बेर और नींबू की खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है. बिहार सरकार किसानों को खेती के लिए 50 फीसदी सब्सिडी दे रही है.

आम के पौधे लगाने के लिए 30 हजार

उद्यान विभाग फल विकास योजना एवं शुष्क बागवानी योजना के तहत किसानों को अनुदानित दर पर खेती करने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है. इस वर्ष आम के पौधे लगाने का लक्ष्य है. इसकी इकाई लागत 60,000 रुपये प्रति हेक्टेयर है. किसानों को 50 फीसदी सब्सिडी दी जाएगी.

बिहार के बांका जिले में शुष्क बागवानी योजना के तहत आम, एप्पल बेर, अमरूद और नींबू की खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है. आम के लिए 30 हेक्टेयर, एप्पल बेर के लिए 40 हेक्टेयर, नींबू के लिए 60 हेक्टेयर और अमरूद के लिए 30 हेक्टेयर का लक्ष्य है। नारियल के पौधे पर सब्सिडी दर उन किसानों को दी जाएगी जो अपने घरों के आसपास या अपनी जमीन पर नारियल के पौधे लगा सकते हैं।

WhatsApp Group Join Now